33 C
Khagaria
Wednesday, July 24, 2024
बड़ी खबरें :

*श्रीगंगानगर वरिष्ठ एसपी देशमुख की नेक सोच से अपराधियो में खौफ का डंका बजा*। *अपराध को निमंत्रण नही नियंत्रण करने में सर्वोच्च खिताब के काबिल है* ! चाल -बाज शातिर चलैंज दिमाग का 27 स्थाई वारण्टी को पुलिस ने किया गिरफ्तार*- =================== पुष्पा भाटी जर्नलिस्ट ब्लोग्गर्स __________ *श्रीगंगानगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख के श्रीगंगानगर में कदम रखते ही (अपराधी खामोश ) अपराध फैलाने वाले बेखौफ लुटेरे-बदमाश तस्कर जो जुर्म की आग फैला कर ऐशो आराम से जीवन व्यतीत कर रहे थे सब — जल्द सलाखो की कतार में ! *जरिए नोटो के बंडल कई वर्षो से स्थाई फरार चल रहे थे जो*- कि पुलिस की गिरफ्त की सोच से परे विषैली सांपो की तरह उगलते जहर से कई परिवारो के चिराग गूल कर चुके थे । अन्य छोटे-2 नशा बेचने वालो पर ही पुलिस द्वारा छापेमारी की कार्रवाई की जाती थी जो कि सिर्फ पन्नो की काबिलियत तक ही सिमटकर रह जाती थी। अक्सर अखबारो के सुर्खिया में पत्रकार जब बड़े मगर मच्छर को जाल डालने की बात करते तब तक कई केस ही रफा दफा में बदल जाते है । आज मुझे न्युज लिखते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि – *जला डाले नोटो के बंडल सारे* , *काट डाले सिफ़ारिशो को काॅल सारे* !! *गिरा डाली वो मंजिल सारी* *जो चीखती चिल्लाती मां* *के लाल के खून से थप्पी गई थी*!! सुबह शाम श्रीगंगानगर की हर गल्ली मौहल्ले की भीड़ को चीरती हुई जब निकलती है पुलिस जवान की टोली होश उड़ जाते है अपराधियो व नशेड़ीयो के हां आपको बताते चले कि- श्रीगंगानगर निवासी सागर पुत्र भगवान दास श्रीगंगानगर सागर कम्युनिकेशन मकान नम्बर 8 गली नम्बर 7 सेतिया कॉलोनी हाल में 54 विनोबा मार्केट नजदीक दुर्गा मन्दिर श्रीगंगानगर जो थाना कोतवाली के 27 स्थाई वारण्टी में पिछले पांच सालो से खुद को शातिर दिमाग बाज समझकर पुलिस की आंखो के ओझल जीवन व्यतीत कर रहा था भला पुलिस की खाकी से जुर्म करने वाला कब तक बचकर रह सकता है। पुलिस की गिरफ्त में । आमतौर पर यह कहा जाता है कि खाकी पहने चाहे तो अपराधी की क्या मजाल है चाल बदल जाए । वरिष्ठ अधीक्षक की नेक नियत ईमानदारी के जो श्रीगंगानगर जिले को नशामुक्त व अपराध नियंत्रण के नतीजे निकल कर जो सामने आ रहे है अगर भविष्य में ही ऐसे खाकी कप्तान की मजबूती बनी रही थी तो वास्तव में श्रीगंगानगर जिला अपराध मुक्त व नशामुक्त की श्रेणी में पहले स्थान पर रहेगा। अपराध को निमंत्रण नही नियंत्रण करने में अव्वल दर्जे के वरिष्ठ एसपी परिस देश मुख है ।। पुष्पा भाटी जर्नलिस्ट ब्लोग्गर्स पत्रकार एकता संघ वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राजस्थान एनसीसीएचडब्ल्यूओ राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी ! राष्ट्रीय दैनिक समाचार दि ग्राम टूडे राजस्थान संपादक 7690007876 —

*श्रीगंगानगर वरिष्ठ एसपी देशमुख की नेक सोच से अपराधियो में खौफ का डंका बजा*।
*अपराध को निमंत्रण नही नियंत्रण करने में सर्वोच्च खिताब के काबिल है* !

चाल -बाज शातिर चलैंज दिमाग का 27 स्थाई वारण्टी को पुलिस ने किया गिरफ्तार*-
===================
पुष्पा भाटी जर्नलिस्ट ब्लोग्गर्स
__________
*श्रीगंगानगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख के श्रीगंगानगर में कदम रखते ही
(अपराधी खामोश )
अपराध फैलाने वाले बेखौफ
लुटेरे-बदमाश तस्कर जो जुर्म की आग फैला कर
ऐशो आराम से जीवन व्यतीत कर रहे थे सब — जल्द सलाखो की कतार में !

*जरिए नोटो के बंडल कई वर्षो से स्थाई फरार चल रहे थे जो*- कि पुलिस की गिरफ्त की सोच से परे विषैली सांपो की तरह उगलते जहर से कई परिवारो के चिराग गूल कर चुके थे । अन्य छोटे-2 नशा बेचने वालो पर ही पुलिस द्वारा छापेमारी की कार्रवाई की जाती थी जो कि सिर्फ पन्नो की काबिलियत तक ही सिमटकर रह जाती थी। अक्सर अखबारो के सुर्खिया में पत्रकार जब बड़े मगर मच्छर को जाल डालने की बात करते तब तक कई केस ही रफा दफा में बदल जाते है ।
आज मुझे न्युज लिखते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि –
*जला डाले नोटो के बंडल सारे* ,
*काट डाले सिफ़ारिशो को काॅल सारे* !!
*गिरा डाली वो मंजिल सारी*
*जो चीखती चिल्लाती मां*
*के लाल के खून से थप्पी गई थी*!!
सुबह शाम श्रीगंगानगर की हर गल्ली मौहल्ले की भीड़ को चीरती हुई जब निकलती है पुलिस जवान की टोली
होश उड़ जाते है अपराधियो व नशेड़ीयो के
हां आपको बताते चले कि-
श्रीगंगानगर निवासी सागर पुत्र भगवान दास श्रीगंगानगर सागर कम्युनिकेशन मकान नम्बर 8 गली नम्बर 7 सेतिया कॉलोनी हाल में 54 विनोबा मार्केट नजदीक दुर्गा मन्दिर श्रीगंगानगर जो थाना कोतवाली के 27 स्थाई वारण्टी में पिछले पांच सालो से खुद को शातिर दिमाग बाज समझकर पुलिस की आंखो के ओझल जीवन व्यतीत कर रहा था
भला पुलिस की खाकी से जुर्म करने वाला कब तक बचकर रह सकता है। पुलिस की गिरफ्त में ।
आमतौर पर यह कहा जाता है कि खाकी पहने चाहे तो अपराधी की क्या मजाल है चाल बदल जाए ।
वरिष्ठ अधीक्षक की नेक नियत ईमानदारी के जो श्रीगंगानगर जिले को नशामुक्त व अपराध नियंत्रण के नतीजे निकल कर जो सामने आ रहे है
अगर भविष्य में ही ऐसे खाकी कप्तान की मजबूती बनी रही थी तो
वास्तव में श्रीगंगानगर जिला
अपराध मुक्त व नशामुक्त की श्रेणी में पहले स्थान पर रहेगा।
अपराध को निमंत्रण नही
नियंत्रण करने में अव्वल दर्जे के वरिष्ठ एसपी परिस देश मुख है ।।

यह भी पढ़ें :  गुरु हमें जीवन के महानतम उद्देश्य की ओर ले जाने का मार्ग दिखाते हैं- डॉ. अर्चना श्रीवास्तव / जे पी शर्मा

पुष्पा भाटी जर्नलिस्ट ब्लोग्गर्स पत्रकार एकता संघ वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राजस्थान एनसीसीएचडब्ल्यूओ राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी ! राष्ट्रीय दैनिक समाचार दि ग्राम टूडे राजस्थान संपादक 7690007876 —

Previous article
Next article
*खरतरगच्छ की आन,बान,ओर शान खरतरगच्छाधिपति आचार्य श्री जिन मणिप्रभसुरीश्वर जी म सा* *50वर्ष पूर्ण होने एवम 51वे में प्रवेश के उपलक्ष में विशेष लेख* *तिरपातूर (भुवाल माजीसा टाईम्स)* वीरों की मरुभूमि प्रदेश राजस्थान के रेतीले टीलों की अथाह संपदा वाले,एक समय के सबसे पिछड़े जिले ओर आज के सबसे धनी जिले का गौरव लिए काला सोना (क्रूड ऑयल) उगलने वाले बाड़मेर जिले के छोटे से कस्बे लेकिन धार्मिक एव आर्थिक दृष्टि से सम्पन मोकलसर का नाम जन जन की जुबान पर है। इसी नगर की पावन भूमि धरा पर विक्रम संवत २०१६ फाल्गुन सुदी १४ को लुंकड़ परिवार के धर्मनिष्ठ श्रावक श्री पारसमल जी के घर श्रीमती रोहिनिदेवी की कुक्षी से एक बालक ने जन्म लिया,जिन्होंने 12 मार्च 2016 के शुभ दिवस पर खरतरगच्छ के सुखसागर समुदाय में गच्छाधिपति आचार्य पदवी पर आसीन हुवे,ओर आज जन जन के ह्रदयों में बसे हुवे है। ऐसे बालक का सांसारिक नाम मीठालाल रखा गया। बालक जैसा नाम वैसे ही गुण के अनुरुप ही शक्कर के समान मीठा था।जैन समाज के अग्रणीय श्री पारसमल जी का व्यापार दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्य के हुबली क्षेत्र में था,ओर उनका परिवार मारवाड़ में रहता था,इनका व्यापार और परिवार हर क्षेत्र में दिन दुगुनी रात चौगुनी प्रगति कर रहा था। किंतु होता वही है जो कुदरत को मंजूर होता है।बचपन मे ही छोटी सी उम्र में ही पिताजी श्री पारसमल जी का निधन होने से माताजी रोहिणीदेवी को बहुत बड़ा आघात लगा। भाई,बहिन दोनों को पितृ वात्सल्य से वंचित रहना पड़ा,उनका मन असार संसार से विरक्त हो गया।उस समय मीठालाल की उम्र मात्र ४ वर्ष की ओर पुत्री विमला मात्र ६ माह की थी।उस दुखद घटना से श्रीमती रोहिणीदेवी की एक आंख में पति का विछोह के दर्द का समुंदर था तो दूसरी आंख में अपने ह्रदय को पाषाण बनाकर अपने जीवन साथी की आकांक्षाओं ओर अरमानों को पूरा करने के लिए हताशा एव निराशा को दूर फेंककर,साहस का दामन थामा जिससे उनके शरीर के रोम रोम में तेजस्विनी का ओजस्वी स्वरूप खिल उठा। वह संयमी जीवन व्यतीत करने लगी।उनहोने अपने बच्चो की प्राथमिक शिक्षा हेतु गांव की स्कूल में ही दाखिला करवा दिया। लेकिन रोहिनिदेवी के मन में कुछ और ही चल रहा था।उनकी भावना अपने भावी जीवन को संवारने के लिए दीक्षा लेने का मन ही मन विचार करने लगी।गांव में होने वाले चातुर्मास में विराजित साधु साध्वी जी से मिलना,जुलना,दर्शन करना,संवाद करना,धर्म ज्ञान की चर्चा करने लगी। विक्रम संवत २०२९ के चातुर्मास की अवधि में श्री नाकोड़ा तीर्थ पर परम पूज्य श्री जिन कांतिसागर सूरीश्वर जी म सा एव पुजनीय गुरूवर्या आगम ज्योति प्रवर्तिनी श्री प्रमोद श्री जी म सा की सुशिष्या परम् तपस्विनी,सेवाभावी,श्री प्रकाश श्री जी म सा आदि की पावन एव परम निश्रा में उपधान तप का आयोजन होने पर माताजी रोहिणीदेवी ने उसमे भाग लिया।कूछ समय बाद बालक मीठालाल अपनी माँ से मिलने नाकोड़ाजी आये श्री कांतिसागर सुरीश्वर जी म सा खरतरगच्छ में ही नही बल्कि सम्पूर्ण जेने जेनेत्तर समाज मे प्रसिद्ध साधु थे।अन्य श्रावको की तरह ही बालक मीठालाल भी आचार्य श्री के दर्शन,वन्दन कर करने गये, तब गुरुदेव अकेले ही थे,विधि पूर्वक वन्दना करने के बाद चेहरे की शांत,सौम्य,मुस्कान आंखों की मासूमियत देखकर गुरुदेव बालक से प्रभावित हुवे बिना नही रहै। उस दिन तो मीठालाल से परिचय कर नपी तुली भाषा के प्रश्नों के जरिये ही वार्तालाप हुई।गुरुदेव को उसी दिन इस नन्हे बालक को देखकर अपने ज्ञान से मालूम हो गया कि एक दिन यही बालक सम्पूर्ण धरा पर गच्छ ओर समाज का नाम रोशन करेगा। गुरुदेव ने छोटे से स्तर पर उसकी परीक्षा ली और बालक ने बड़ी ही सहजता से सभी प्रश्नों का सही जवाब दिया। गुरुदेव ने यह अनुमान लगाया कि यदि इस बालक को दीक्षित किया जाय तो भविष्य में यह बालक एक प्रखर,एव प्रभावशाली साधु बनने योग्य है। इस बीच समय बीतता रहा पूर्व योजनानुसार मॉ,बेटा, बेटी तीनो ही बस द्वारा मोकलसर से अहमदाबाद रेलगाड़ी द्वारा ओर वह से बस द्वारा ज्येष्ठ वदी १० को पालीताना पहुच गए। वहा पर परम पूज्य आचार्य श्री मज्जिन कांतिसागर सुरीश्वर जी महाराजा के दर्शन कर विश्राम किया।आखिरकार गुरुदेव ने दीक्षा की आज्ञा प्रदान कर दी। वह शुभ धड़ी भी आ गई विक्रम संवत २०३० आसाढ़ वदी ७ को मात्र १३ साल की उम्र में मीठालाल,१० वर्ष की उम्र में कुमारी विमला हरिविहार के ऊपर वाले हाल में पहुचे जहा आसन पर चरवला,मुहपत्ति,तैयार थे। चौमुखी परमात्मा भी विराजमान थे। उसी समय विधि विधान से भाई-बहिन दोनों की दीक्षा हो गई।पूज्य गुरुदेव ने पूज्य सुखसागर जी महाराजा के समुदाय परम्परा के अनुसार महोपाध्याय श्री क्षमाकल्याण जी की वासक्षेप का उच्चारण कर मीठालाल को प पूज्य मुनि श्री मनीप्रभसागर जी म सा नाम रखा एव कुमारी विमला को आगम ज्योति प पूज्य प्रवर्तिनी श्री प्रमोदश्री जी म सा की शिष्या घोषित कर प पूज्य साध्वी श्री विधुतप्रभा श्री जी म सा नाम रखा गया। उस समय माताजी सहित पूरे परिवार ने दोनों को आशीर्वाद दिया,लेकिन नियति को कूछ ओर ही मंजूर था।ठीक दो घण्टे बाद माताजी रोहिणी देवी को भी उसी हाल में विधि विधान पूर्वक दीक्षा दी गई जिनका नाम प पूज्य साध्वी श्री रत्नमाला जी म सा रखा गया। आपका युवाकाल अत्यंत ही मेघावी एव प्रतिभाशाली रहा है मात्र १३ वर्ष की अल्प आयु में दीक्षा ग्रहण करते ही गुरुदेव द्वारा धार्मिक क्रिया का एक पाठ स्मरण करने को देने पर उसके स्थान पर तीन तीन पाठ का रटन कर गुरुदेव को सुनाते ही गुरुदेव अपने शिष्य की तीव्र प्रतिभाशाली बुद्धि देखकर मन ही मन हर्षपूर्वक विभोर हो हो जाते थे।क्यो न हो पूज्य गुरुदेव के प्रथम एव प्रधान शिष्य होने के साथ ही बहुत ही निकट एव प्रिय शिष्य थे। ज्ञान पिपासा आपके व्यक्तित्व का विशिष्ट गुण है,अपने छोटे हो या बड़े कार्य आप स्वयं संपादित करते थे।महामूल्यवान जीवन का एक क्षण भी आलस्य,प्रमाद,निरथर्क,वार्तालाप एव इधर उधर की बातों में व्यतीत नही करते थे। आपके द्वारा अब तक कई पुस्तको का प्रकाशन किया जा चुका है,आचार्य गुरुदेव श्री कांतिसागर जी म सा के महाप्रयाण के बाद विक्रम संवत २०४२ से आप श्री ने देश के विभिन प्रान्तों में विहार कर चातुर्मास किये।सभी स्थानों में आपकी अदभुत क्षमता थी ।आपको एक कर्मठ शासक,ओर प्रभावक,सुविख्यात,एव कुशल वक्ता होने के कारण जैन श्री संघ पादरू(बाड़मेर) द्वारा दिनांक २४ जून १९८८ को गणि पदवी से ,२६ जनवरी २००१ को गढ़ सिवाना में श्री खरतरगच्छ संघ द्वारा उपाध्याय पद से विभूषित किया गया। आपके कई चातुर्मास तो इतिहास के पन्नो पर सवर्ण अक्षरों से लिखे गए।परम पूज्य गुरुभगवन्त,प्रज्ञा पुरुष,आचार्य श्री जिन कांतिसागर सूरीश्वर जी म सा की पुण्य स्मृति में विश्व का पहला अनूठा जहाज मन्दिर जालौर जिले के मांडवला नगर में बनाया गया जो आज जन जन कि आस्था का केंद्र बना हुवा है तथा यहा हर वर्ष हजारो श्रद्धालु आते है। अपने अपने संयम जीवन मे लगभग 141 से अधिक दीक्षाये,226 के आस पास जिन मन्दिरो की अंजनशलाकाये व प्रतिष्ठा,उपधानतप,पेदल यात्रा संघ,आदि महत्वपूर्ण कार्य आप ही के सानिध्य में सम्पन हुवे। गज मन्दिर आदि आप ही कि निश्रा के साक्षी बने। इसी क्रम में बाड़मेर नगर से 5 किलोमीटर दूर राष्ट्रीय राज मार्ग पर अहमदाबाद हाईवे स्थित परम् पूज्य बहिन म सा साध्वी डॉ श्री विधुतप्रभा श्री जी की पावन प्रेरणा से निर्मित कुशल वाटिका पर विक्रम संवत २०६७ दिनांक 29/04/11 को आप श्री की निश्रा में श्री मुनिसुव्रत स्वामी जिन मन्दिर की चल प्रतिष्ठा एव पूज्या श्री प्रमोद श्री जी म सा की विद्यापीठ संस्थान का उदघाटन कार्य सम्पन हुवा उस समय के परम पूज्य उपाध्याय प्रवर श्री मनोज्ञसागर जी म सा की प्रेरणा एव सुझबूझ से जेसलमेर के निकट बरहमसर में अति प्राचीन चमत्कारी दादावाड़ी जिर्णोद्धार की भव्य से भव्याति अंजनशलाका एव प्राण प्रतिष्ठा आप ही के पावन सानिध्य में सम्पन हुई। उसके बाद आप ही के कर कमलों द्वारा ऐतिहासिक संकुल कुशल वाटिका की प्रतिष्ठा 12 फरवरी 2013 को सम्पन हुई। आप ही कि निश्रा में भारत भर की हजारो दादावाड़ीयो की प्रतिष्ठा सम्पन हुई जो आज खरतरगच्छ की पहचान एव धरोहर है। उपाध्याय पद पर आसीन होने के बाद खरतरगच्छ की धर्म पताका को सम्पूर्ण जैन बाहुल्य क्षेत्र के साथ साथ दक्षिण भारत के तीनों राज्यो की राजधानीयो में चातुर्मास करने के साथ समुंद्री सीमा के रामेश्वर सहित सभी जगह जगह दादा गुरूदेव की दादावाड़ीयो का निर्माण,जिर्णोद्धार आदि आप श्री ने करवाया। परम पूज्य खरतरगच्छ आचार्य श्री कैलाससागर सुरीश्वसर जी के देवलोक गमन के बाद आप श्री को कर्नाटक के सिंधनूर में गणाधीश पदवी से विभूषित किया गया। खरतरगच्छ के 995 वर्षो में ऐतिहासिक गच्छ के 10 दिवसीय समेलन की घोषणा अपने पहले से ही कर रखी थी,पालीताना की पावन भूमि पर लगभग 20 हजार चतुर्विद संघ की उपस्थिति में आप श्री को तपागच्छाधिपति आचार्य भगवंतो की निश्रा एव विराट संख्या में खरतरगच्छ के साधु साध्वी की पावन साक्षी में खरतरगच्छ के सर्वोच्च आचार्य पद से विभूषित किया गया। तब से आप खरतरगच्छ के मुख्य सेनापति के नाते सम्पूर्ण देश मे धर्म ध्वज की पताका को फहरा रहे है। पालीताना से उग्र विहार कर आप श्री ने 2016 का चातुर्मास छतीसगढ़ के दुर्ग में उपधान तप की आराधना के साथ सम्पन हुवा। आप ही कि पावन प्रेरणा से सम्पूर्ण देश के युवाओ को धार्मिक ज्ञान के साथ साथ धर्म का समाज का व्यवहारिक ज्ञान भी सीखाने के उदेश्य से आप श्री ने अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद का गठन किया जिसका पहला समेलन दुर्ग में,दूसरा बीकानेर में हुवा। गच्छ की महिलाओ को संघठित करने के उदेश्य से अखिल भारतीय खरतरगच्छ महिला परिषद का भी गठन किया गया। आप श्री का 2017 का बीकानेर चातुर्मास बड़े ही ठाठ बाठ से सम्पन हुवा। इसके बाद दादा गुरुदेव की प्रचीन भूमि विक्रमपुर में ऐतिहासिक प्रतिष्ठा कर दादा गुरुदेव की स्थली को विश्व के नक्शे पर ला दिया। वहा से विहार कर आप कई प्राचीन तीर्थो की स्पर्सना करते हुवे सिणधरी पधारे जहा से लगभग 2 हजार पद यात्रियो का छ रि पालित पेदल यात्र संघ नाकोड़ा जी के लिए निकला।नाकोड़ा जी,मांडवला,चितलवाना,सांचोर,धोरीमना,धनाऊ,चोहटन,कुशल वाटिका होते हुवे आप 9 फरवरी को पदारोहण के बाद पहली बार खरतरगच्छ नगरी बाड़मेर पधारे आप श्री के साथ उपाध्ययाय प्रवर श्री मनोज्ञसागर जी म सा एव बहिन म सा सहित कई साध्वी समुदाय पधारे थे। बाद में आप श्री बालोतरा से ,विक्रमपुर पहुचे जहा दादावाड़ी की प्रतिष्ठा सम्पन कर आप श्री बीकानेर,मांडवला,सांचोर, अहंमदाबाद,बडोदरा, होते हुवे सूरत्त पधारे थे।जहा मुनिसुव्रत स्वामी मन्दिर एव दादावाड़ी की प्रतिष्ठा पाल में सम्पन कर आप चातुर्मास हेतु इंदौर पधारे जहा ऐतिहासिक चातुर्मास सम्पन हुवा। इसके बाद उजेन में अवन्ती पार्श्वनाथ दादा की जीर्णोद्वार प्रतिष्ठा सम्पन हुई जिसमें 35 हजार श्रद्धालू साक्षी बने। उसके बाद धुलिया,मांडवला,शत्रुंजय तीर्थ में चातुर्मास कर जिनशासन एवम गच्छ में दिन दोगुनी रात चौगुनी प्रगति की। पालितना में उपधन तप की आराधना अपने आप में एक अनुपम आराधना थी जिसमे लगभग २०० बचो ने भी भाग लिया।और १५०० अन्य आराधक थे। श्री शत्रुंजय तीर्थ से श्री गिरनार तीर्थ तक छः रो पालित पद यात्रा का आयोजन गछ के इतिहास में एक नया सर्जन कर गया ।उसके बाद अनेकों जगहों पर दीक्षा,प्रतिष्ठा सम्पन्न करवाते हुवे,२०२२ गुलाबी नगरी का ऐतिहासिक चतुर्नास एवम प्रतिष्ठा के बाद अनेक क्षेत्रों में विहार करते हुवे इस वर्ष २०२३ का चातुर्मास तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में होने जा रहा है जहा चातुर्मास प्रवेश १ जुलाई को होगा। आपकी ओजस्वी वाणी,बोलने की संयमित भाषा,कुशल नेतृत्व,एव सभी से एक समान व्यवहार ही गच्छ को नई बुलंदियों की ओर ले जा रहा है। *खरतरगच्छ के सर्वोच्च पद के आसीन गच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिन मणीप्रभ सूरीश्वर जी म सा को कोटि कोटि वन्दना।* *लेखनी में पूर्णतया सावधनी बरती गई है फिर भी कोई भूल हो तो मिच्छामिदुक्कड़म* *संकलन* *चंपालाल छाजेड़ सूरत*
सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें

spot_img

आपके विचार

Manohar on *स्वर्गीय पासवान की स्मृति और आदर्श सदैव प्रेरणादायक:शास्त्री* खगड़िया, 26 अक्तूबर 2022 सदर प्रखण्ड के रानीसकरपुरा निवासी पूर्व जिला परिषद् प्रत्याशी व जदयू नेता समाजसेवी स्मृतिशेष दिवंगत राजेश पासवान के याद में रानीसकरपुरा पंचायत के वार्ड नं 01 स्थित सुशिला सदन के परिसर में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।जिसकी अध्यक्षता स्थानीय पंसस प्रतिनिधि रवि कुमार पासवान ने की।जबकि मंच संचालन डॉ0 मनोज कुमार गुप्ता ने किया।सर्वप्रथम उपस्थित अतिथियों तथा शुभचिंतकों के द्वारा उनके तैलचित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित कर नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। मौके पर जदयू के जिला प्रवक्ता आचार्य राकेश पासवान शास्त्री ने कहा कि स्वर्गीय राजेश पासवान की मधुर स्मृति, स्नेह,आदर्श, मार्गदर्शन एवं उनके आशीर्वाद हमसबों के लिए सदैव प्रेरणादायक रहेंगे।उन्होंने कहा कि जब कभी भी बरैय और रानीसकरपुरा पंचायत के राजनीतिक व सामाजिक कार्यों में बेहतर भूमिका निभाने वालों की चर्चा होगी तो उसमें स्वर्गीय पासवान का नाम श्रद्धापूर्वक लिया जाएगा। इस अवसर पर रामपुकार पासवान, रामविलाश पासवान, रामदेव पासवान, चन्दर पासवान, अरूण पासवान, जदयू नेत्री ईशा देवी, रीना देवी, बिभा कुमारी,राजीव पासवान, अमित पासवान, सरोज पासवान, विजय पासवान, जितेन्द्र पासवान, दीपक कुमार, हरिवंश कुमार, अभिषेक कुमार, वार्ड सदस्या सुशीला देवी,अनोज कृष्ण,चिराग व बिक्रम कुमार आदि दर्जनों गणमान्य लोग उपस्थित थे