Warning: include_once(/home/khagaria/jagdoot.com/wp-content/plugins/wp-super-cache/wp-cache-phase1.php): Failed to open stream: No such file or directory in /home/khagaria/jagdoot.com/wp-content/advanced-cache.php on line 22

Warning: include_once(): Failed opening '/home/khagaria/jagdoot.com/wp-content/plugins/wp-super-cache/wp-cache-phase1.php' for inclusion (include_path='.:/opt/alt/php80/usr/share/pear:/opt/alt/php80/usr/share/php:/usr/share/pear:/usr/share/php') in /home/khagaria/jagdoot.com/wp-content/advanced-cache.php on line 22
यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन (UPSF) उत्तर प्रदेश का प्रांतीय अधिवेशन हुआ सम्पन्न आचार्य सिद्धविद्यानंद अवधूत ने कहा कि यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन की स्थापना 15 सितंबर 1959 में श्री प्रभात रंजन सरकार ने मोतिहारी की ऐतिहासिक धरती पर किये थे,जानें – जगदूत न्यूज एजेंसी
Home ब्रेकिंग न्यूज यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन (UPSF) उत्तर प्रदेश का प्रांतीय अधिवेशन हुआ सम्पन्न आचार्य सिद्धविद्यानंद अवधूत ने कहा कि यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन की स्थापना 15 सितंबर 1959 में श्री प्रभात रंजन सरकार ने मोतिहारी की ऐतिहासिक धरती पर किये थे,जानें

यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन (UPSF) उत्तर प्रदेश का प्रांतीय अधिवेशन हुआ सम्पन्न आचार्य सिद्धविद्यानंद अवधूत ने कहा कि यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन की स्थापना 15 सितंबर 1959 में श्री प्रभात रंजन सरकार ने मोतिहारी की ऐतिहासिक धरती पर किये थे,जानें

यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन (UPSF) उत्तर प्रदेश का प्रांतीय अधिवेशन हुआ सम्पन्न

आचार्य सिद्धविद्यानंद अवधूत ने कहा कि यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन की स्थापना 15 सितंबर 1959 में श्री प्रभात रंजन सरकार ने मोतिहारी की ऐतिहासिक धरती पर किये थे

Jna रंजय तिवारी

इलाहाबाद,यूपी।स्टूडेंट्स फेडरेशन के प्रान्तीय अधिवेशन का शुभारंभ मुख्य वक्ता आचार्य सिद्धविद्यानंद अवधूत, कार्यक्रम के अध्यक्ष डॉ महेन्द्र जी, PSS के प्रदेश अध्यक्ष श्री प्रवीण देव जी श्री नरेंद्र जी PU BP ,DS Prayagraj आचार्य आदिदेव ब्रह्मचारी के द्वारा संयुक्त रुप से संगठन के प्रणेता श्री श्री प्रभात रंजन सरकार के प्रकृति पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया।कार्यक्रम के मुख्य वक्ता आचार्य सिद्धविद्यानंद अवधूत ने कहा कि यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन की स्थापना 15 सितंबर 1959 में श्री प्रभात रंजन सरकार ने मोतिहारी की ऐतिहासिक धरती पर किये थे। विद्यार्थियों को सुंदर वातावरण एवं संसाधनों की पूर्ति हो जिससे उनके अध्ययन करने में कोई असुविधा नहीं हो, शिक्षा रोजगारोन्मुखी हो, शिक्षा के उपरांत शत प्रतिशत रोजगार की गारंटी होना चाहिए, शिक्षा के क्षेत्र में राजनीतिज्ञों के हस्तक्षेप से शिक्षा लचर पचर हो गई है अतः शिक्षाविदों द्वारा गठित परिषद द्वारा शिक्षा परिचालित होनी चाहिए। आज के समय में विद्यार्थियों से व्यवसाय किया जाता है। वैकेंसी के नाम पर लाखों छात्रों से फॉर्म के नाम पर कड़ोरो, अरबो कमाया जाता है। वहीं मेधा शक्ति का दुरुपयोग आज के अनैतिक नेतागण कर रहे हैं। इसलिए यूनिवर्सल प्राउटिष्ट स्टूडेंट्स फेडरेशन एक ऐसा नैतिकवान छात्रों का संगठन है जो बिल्कुल राजनीतिक पार्टी से अलग है जिसका उद्देश्य निशुल्क एवं समान शिक्षा, शिक्षा के उपरांत रोजगार की गारंटी की मांग है।वही कार्यक्रम का अध्यक्षता करते Dr महेन्द्र जी ने कहा कि वर्तमान समय में हर तरफ समस्या ही समस्या है। सभी छात्रों और युवाओं को संगठित होकर एक नए समाज का निर्माण करना है।अतिथि पूर्ब प्राचार्य लाल बहादुर ने कहा कि UPSF नव्य मानवतावाद शिक्षा का पक्षधर है जिसके माध्यम से विद्यार्थियों का चारित्रिक निर्माण एवं शिष्टाचार आदि गुण लाने में सहायक है। उन्होंने कहा कि छात्रों को अपने जीवन मे सफल होने के लिए नैतिकवान बनना पड़ेगा।वही फेडरेशन के इलाहबादविश्वाविद्यालय इकाई सचिव तन्नूश्री ने कहा कि पूंजीवाद एवं साम्यवाद के भयानक कृत्य से संसार में शोषण अधिक बढ़ता जा रहा है अतः प्रउत प्रदर्शन के आलोक में समाज को मजबूत करना होगा। विद्यार्थियों एवं शिक्षकों के बीच प्रेम एवं सौहार्द का संबंध बन सके इसके लिए छात्रों को नैतिकवान बनाना जरूरी है। कहा कि देश निर्माण में विद्यार्थियों का अहम भूमिका है। विद्यार्थी ही देश में परिवर्तन ला सकते हैं इसलिए सभी छात्रों को एक जुट होना पड़ेगा। UPSF से जुड़कर सभी विद्यार्थी को भारतवर्ष में शिक्षा की ज्योति जलानी होगी, भ्रष्टाचार, सामाजिक कुरीतियों जैसे बाल विवाह, दहेज प्रथा एवं शराब मुक्त भारत के निर्माण में विद्यार्थियों को आगे आना होगा और नए संकल्प के साथ कार्य करना पड़ेगा।कार्यक्रम में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि UPSF का यूनिट सभी प्रखंड, कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी में होगा। सभी छात्रों का इसमें सहयोग चाहिए। उक्त कार्यक्रम में पूर्व प्रदेश सचिव रवि आनंद ने विद्यार्थियों को UPSF छात्र संगठन से जुड़कर कार्य करने के लिए प्रेरित किया। साथ ही कहा कि विभिन्न विभागों का निजीकरण भी देश के विकास का बहुत बड़ा बाधक है। निजीकरण के कारण देश के सम्पत्ति को धीरे-धीरे किसी निजी व्यक्ति के हाथों बेचा जा रहा है जिससे उक्त व्यक्ति देश का विकास कम और अपना विकास अधिक करते है।Upsf के राष्ट्रीय जन संपर्क सचिव श्रवण सरकार ने कहा कि वर्तमान समय में सबसे ज्यादा शोषण विद्यार्थियों का ही हो रहा है। देश में सरकारी नौकरियों के लिए आयोजित होने वाला अधिकतर परीक्षाओं में भ्रष्टाचार व्याप्त है। एक तो समय पर परीक्षा होता नहीं है और होता भी है तो प्रश्न पत्र पहले ही आउट हो जाता है। इन सभी के बीच अगर परीक्षा हो भी गया तो बहाली के दौरान लाखों का मांग किया जाता है। नियुक्ति के लिए। तथा परीक्षा शुक्ल भी अधिक लिया जाता है ऐसे परिस्थितियों में जो गरीब परिवार के बच्चें है वे परीक्षा फ्रॉम किस परिस्थिति में भरते है। इस दुःख को बड़े-बड़े नेताओं को क्या पता।वही सहरसा से आये श्रवण सरकार ने कहा कि प्रउत और UPSF वर्तमान समय का मांग है। सभी को संगठित होकर इस व्यवस्था को स्थापित करने का प्रयास करना होगा।शिवहर जिला से आये प्रिंस कुमार और पंकज कुमार ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि UPSF एक मात्र गैर राजनीतिक छात्र संगठन है जो नैतिक शिक्षा का पक्षधर है इसलिए छात्रों को इससे जुड़ना चाहिए।उक्त कार्यक्रम में शैलेश कुमार, देवेन्द्र कुमार, तनुश्री,नीतीशआदर्श कुमार कुमार, आजाद देव, श्रवण कुमार, पंकज कुमार, प्रिंस कुमार, रूपेश कुमार आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here