35.1 C
Khagaria
Monday, June 24, 2024
बड़ी खबरें :

खानकाह फरीदिया जोगिया शरीफ की अपील, प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी से बचें

खगड़िया /अलौली(अमित कुमार): साहसी पंचायत के खानकाह फरीदिया जोगिया शरीफ में बकरीद का पर्व 10 जुलाई को मनाया जाएगा जोगिया शरीफ के सज्जादा नशीन

हजरत बाबू मुहम्मद सईदैन फरीदी ने बताया कि लॉकडाउन के 2 साल बाद इस मर्तबा आजादी के साथ मुस्लिम भाइयों को ईदुल अजहा की नमाज पढ़ने की आजादी होगी ।
आगे उन्होंने कहा कि ऐसे जानवरों की ही कुर्बानी करें जिसकी हमें कानून इजाजत देता है और ऐसे जानवरों की कुर्बानी कतई न करें जिन पर सरकार द्वारा प्रतिबंध है.
*जोगिया शरीफ के हजरत बाबू सिबतैन फरीदी* ने बताया के इस्लाम में प्रमुख रूप से दो बड़े त्योहार मनाए जाते हैं. एक ईद-उल-फित्र तो दूसरा ईद-उल-अजहा. इस साल 10 जुलाई को हिंदुस्तान में ईद-उल-अजहा मनाई जाएगी. ईद-उल-अजहा के मौके पर मुस्लिम समाज नमाज पढ़ने के साथ-साथ जानवरों की कुर्बानी भी देता है. इस्लाम के अनुसार कुर्बानी करना हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की सुन्नत है, जिसे अल्लाह ने मुसलमानों पर वाजिब कर दिया है.

दरअसल कुर्बानी का सिलसिला ईद के दिन को मिलाकर तीन दिनों तक चलता है. मुस्लिम समाज अल्लाह की रजा के लिए कुर्बानी करता है. हलाल तरीके से कमाए हुए धन से कुर्बानी जायज मानी जाती है, हराम की कमाई से नहीं.

कुर्बानी का इस्लामिक महत्व

बाबू सिबतैन फरीदी ने आगे बताया के इस्लाम में कुर्बानी का काफी बड़ा महत्व है. इस्लाम के मद्देनजर अल्लाह ने हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम को अपनी सबसे प्यारी चीज को कुर्बान करने का आदेश दिया. *हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम* को 80 साल की उम्र में औलाद नसीब हुर्ई थी. ऐसे में उनके लिए सबसे प्यारे उनके बेटे *हजरत ईस्माइल अलैहिस्सलाम* थे. ये इब्राहिम अलैहिस्सलाम के लिए एक इम्तिहान था, जिसमें एक तरफ अल्लाह का हुक्म था तो दूसरी तरफ बेटे की मुहब्बत. ऐसे में उन्होंने अल्लाह के हुक्म को चुना और बेटे को अल्लाह की रजा के लिए कुर्बान करने को राजी हो गए.

साहिबे हैसियत पर कुर्बानी वाजिब

ऐसे में हजरत इब्राहिम को लगा कि बेटे को कुर्बानी देते समय उनकी भावनाएं कहीं आड़े ना आ जाए. इसीलिए उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली थी. *इब्राहिम अलैहिस्सलाम* ने जब बेटे *ईस्माइल अलैहिस्सलाम* की गर्दन काटने के लिए छुरी चलाई तो अल्लाह के हुक्म से *ईस्माइल अलैहिस्सलाम* की जगह एक दुंबा(एक जानवर) को पेश कर दिया गया. *इब्राहिम अलैहिस्सलाम* ने जब आंख से पट्टी हटाई तो उन्होंने अपने पुत्र को अपने सामने जिंदा खड़ा पाया. अल्लाह को ये अदा इतनी पसंद आई कि हर साहिबे हैसियत पर कुर्बानी करना वाजिब कर दिया. वाजिब का मुकाम फर्ज से ठीक नीचे है. अगर साहिबे हैसियत होते हुए भी किसी शख्स ने कुर्बानी नहीं दी तो वह गुनाहगार है. ऐसे में जरूरी है कि कुर्बानी करे, महंगे और सस्ते जानवरों से इसका कोई संबंध नहीं है.

किस पर कुर्बानी वाजिब

इस्लाम के मुताबिक वह शख्स साहिबे हैसियत है, जिस पर जकात फर्ज है. वह शख्स जिसके पास साढ़े सात तोला सोना या फिर साढ़े 52 तोला चांदी है या फिर उसके हिसाब से पैसे. आज की हिसाब से अगर आपके पास 28 से 30 हजार रुपये हैं तो आप साढ़े 52 तोला चांदी के दायरे में हैं. इसके मुताबिक जिसके पास 30 हजार रुपये के करीब हैं उस पर कुर्बानी वाजिब है. ईद-उल-अजहा के मौके पर कुर्बानी देना जरूरी बन जाता है.

कुर्बानी का मकसद

*बाबू सिबतैन फरीदी* के मुताबिक इस्लाम में जानवरों की कुर्बानी देने के पीछे एक मकसद है. अल्लाह दिलों के हाल से वाकिफ है. ऐसे में अल्लाह हर शख्स की नीयत को समझता है. जब बंदा अल्लाह का हुक्म मानकर महज अल्लाह की रजा के लिए कुर्बानी करता है तो उसे अल्लाह की रजा हासिल होती है. बावजूद इसके अगर कोई शख्स कुर्बानी महज दिखावे के तौर पर करता है तो अल्लाह उसकी कुर्बानी कुबूल नहीं करता.

कुर्बानी के तीन हिस्से

कुर्बानी के लिए होने वाले जानवरों पर अलग अलग हिस्से हैं. जहां बड़े जानवरों पर सात हिस्से होते हैं तो वहीं बकरे जैसे छोटे जानवरों पर महज एक हिस्सा होता है. मतलब साफ है कि अगर कोई शख्स भैंस या ऊंट की कुर्बानी कराता है तो उसमें सात लोगों को शामिल किया जा सकता है तो वहीं बकरे की कराता है तो वो सिर्फ एक शख्स के नाम पर होगी. कुर्बानी के गोश्त के तीन हिस्से करने की शरीयत में सलाह है. एक हिस्सा गरीबों में तकसीम किया जाए, दूसरा हिस्सा अपने दोस्त अहबाब के लिए इस्तेमाल किया जाए और तीसरा हिस्सा अपने घर में इस्तेमाल किया जाए. गरीबों में गोश्त बांटना मुफीद है.

सम्बन्धित खबरें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें

spot_img

आपके विचार

Manohar on *स्वर्गीय पासवान की स्मृति और आदर्श सदैव प्रेरणादायक:शास्त्री* खगड़िया, 26 अक्तूबर 2022 सदर प्रखण्ड के रानीसकरपुरा निवासी पूर्व जिला परिषद् प्रत्याशी व जदयू नेता समाजसेवी स्मृतिशेष दिवंगत राजेश पासवान के याद में रानीसकरपुरा पंचायत के वार्ड नं 01 स्थित सुशिला सदन के परिसर में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।जिसकी अध्यक्षता स्थानीय पंसस प्रतिनिधि रवि कुमार पासवान ने की।जबकि मंच संचालन डॉ0 मनोज कुमार गुप्ता ने किया।सर्वप्रथम उपस्थित अतिथियों तथा शुभचिंतकों के द्वारा उनके तैलचित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित कर नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। मौके पर जदयू के जिला प्रवक्ता आचार्य राकेश पासवान शास्त्री ने कहा कि स्वर्गीय राजेश पासवान की मधुर स्मृति, स्नेह,आदर्श, मार्गदर्शन एवं उनके आशीर्वाद हमसबों के लिए सदैव प्रेरणादायक रहेंगे।उन्होंने कहा कि जब कभी भी बरैय और रानीसकरपुरा पंचायत के राजनीतिक व सामाजिक कार्यों में बेहतर भूमिका निभाने वालों की चर्चा होगी तो उसमें स्वर्गीय पासवान का नाम श्रद्धापूर्वक लिया जाएगा। इस अवसर पर रामपुकार पासवान, रामविलाश पासवान, रामदेव पासवान, चन्दर पासवान, अरूण पासवान, जदयू नेत्री ईशा देवी, रीना देवी, बिभा कुमारी,राजीव पासवान, अमित पासवान, सरोज पासवान, विजय पासवान, जितेन्द्र पासवान, दीपक कुमार, हरिवंश कुमार, अभिषेक कुमार, वार्ड सदस्या सुशीला देवी,अनोज कृष्ण,चिराग व बिक्रम कुमार आदि दर्जनों गणमान्य लोग उपस्थित थे