35.1 C
Khagaria
Monday, June 24, 2024
बड़ी खबरें :

आलमनगर में होगा विष्णु महायज्ञ 14 जून से 19 जून तक अयोध्या से वापस आने पर बाबा शिवनाथ दास का भक्तों ने किया स्वागत, लिया आशीर्वाद,जानें

विष्णु यज्ञ : पर्यावरण शुद्धि का का है एकमात्र उपाय – देवराहा शिवनाथ दास

आलमनगर में होगा विष्णु महायज्ञ 14 जून से 19 जून तक

अयोध्या से वापस आने पर बाबा शिवनाथ दास का भक्तों ने किया स्वागत, लिया आशीर्वाद

JNA.अभिषेक राज

पत्रकार नगर,खगड़िया। अयोध्या यात्रा से वापस आने पर खगड़िया जिला मुख्यालय स्थित विद्याधार मुहल्ले में ध्रुव कुमार के आवास पर देवराहा संत शिवनाथ दास जी महाराज ने अपने भक्त जनों के बीच मीडिया से कहा मधेपुरा जिलांतर्गत आलमनगर में आगामी 14 से 19 मई तक विष्णु महायज्ञ होने जा रहा है, इसी सिलसिले में वहां जा रहा हूं, जहां महायज्ञ सफलता के लिए झंडा गडूंगा। बाबा शिवनाथ दास जी महाराज ने कहा कलियुग में ईश्वर की भक्ति, भजन व कीर्तन करने से मन में शांति का वातावरण पैदा होता है। आगे उन्होंने कहा आज आवश्यकता है अपने आपको आध्यात्म की तरफ अग्रसर करें, उससे अपना, परिवार का, राज्य का और देश का कल्याण होगा। बाबा शिवनाथ दास महाराज ने कहा यज्ञ शब्द यज व धातु से सिद्ध होता है। इसका अर्थ है देव पूजा, संगतिकरण और दान। संसार के सभी श्रेष्ठकर्म यज्ञ कहे जाते हैं। यज्ञ को अग्निहोत्र, देवयज्ञ, होम, हवन, अध्वर भी कहते हैं। लोग जानते हैं कि दुर्गंधयुक्त वायु और जल से रोग, रोग से प्राणियों को दुख, सुगंधित वायु और जल से आरोग्य व रोग के नष्ट होने से सुख प्राप्त होता है। जहां होम होता है वहां से दूर देश में स्थित पुरुष की नासिका से सुगंध का ग्रहण होता है। उन्होंने कहा अग्नि में डाला हुआ पदार्थ सूक्ष्म होकर व फैलकर वायु के साथ दूर देश में जाकर दुर्गंध की निवृत्ति करता है। अग्निहोत्र से वायु, वृष्टि, जल की शुद्धि होकर औषधियां शुद्ध होती हैं। शुद्ध वायु का श्वास स्पर्श, खान-पान से आरोग्य, बुद्धि, बल व पराक्रम बढ़ता है। इसे देवयज्ञ भी कहते हैं क्योंकि यह वायु आदि पदार्थों को दिव्य कर देता है। कहा कि परोपकार की सर्वोत्तम विधि हमें यज्ञ से सीखनी चाहिए। जो हवन सामग्री की आहूति दी जाती है उसकी सुगंध वायु के माध्यम से अनेक प्राणियों तक पहुंचती है। वे उसकी सुगंध से आनंद अनुभव करते हैं। यज्ञकर्ता भी अपने सत्कर्म से सुख अनुभव करते हैं। सुगंध प्राप्त करनेवाले व्यक्ति याज्ञिक को नहीं जानते और न ही याज्ञिक उन्हें जानता है फिर भी परोपकार हो रहा है। वह भी निष्काम रूप से। यज्ञ में चार प्रकार के हव्य पदार्थ डाले जाते हैं। सुगंधित केसर, अगर, तगर, गुग्गल, कपूर, चंदन, इलायची, लौंग, जायफल, जावित्री आदि इसमें शामिल हैं। मलमूत्र के विसर्जन, पदार्थों के गलने-सड़ने, श्वास-प्रश्वास की प्रक्रिया, धूम्रपान, कल-कारखानों, वाहनों, भट्ठों से निकलनेवाला धुआं, संयंत्रों के प्रदूषित जल, रसायन तत्व एवं अपशिष्ट पदार्थो आदि से फैलनेवाले प्रदूषण के लिए मानव स्वयं ही उत्तरदायी है। अत: उसका निवारण करना भी उसी का कर्तव्य है। बाबा शिवनाथ दास ने कहा वस्तुत: पर्यावरण को शुद्ध बनाने का एकमात्र उपाय यज्ञ है। यज्ञ प्रकृति के निकट रहने का साधन है। रोग-नाशक औषधियों से किया यज्ञ रोग निवारण वातावरण को प्रदूषण से मुक्त करके स्वस्थ रहने में सहायक होता है। आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने भी परीक्षण करके यज्ञ द्वारा वायु की शुद्धि होकर रोग निवारण की इस वैदिक मान्यता को स्वीकार किया है। प्राय: लोगों का विचार है कि यज्ञ में डाले गए घृत आदि पदार्थ व्यर्थ ही चले जाते हैं परंतु उनका यह विचार ठीक नहीं है। विज्ञान के सिद्धांत के अनुसार कोई भी पदार्थ कभी नष्ट नहीं होता अपितु उसका रूप बदलता है। अत: यज्ञ करते हुए बड़े प्रेम से वेदमंत्र बोलकर आहूति दें जिससे मन शुद्ध, पवित्र और निर्मल बन जाए। प्रदूषण समाप्त हो जाए। जनता खुशहाल हो व विश्व का कल्याण हो।बाबा शिवनाथ दास जी महाराज का स्वागत कर आशीर्वाद प्राप्त करने वालों में प्रमुख थे अनिरुद्ध जालान, ध्रुव कुमार, डॉ अरविन्द वर्मा, संजीव कुमार, संजीव सिंह, राम दास, सुरेन्द्र चौधरी, हीरा लाल, उपासना देवी, बेबो कुमारी तथा सदानंद साह आदि।

यह भी पढ़ें :  जगह-जगह जिला मुख्यालयों में अंगिका भाषा की संवैधानिक मान्यता के लिए एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन,डीएम को सौंपा ज्ञापन सकलदेव जी ने कहा अंगिका समाज अंगिका एवं अंगिक लोगों की अस्मिता के लिए धरना

सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें

spot_img

आपके विचार

Manohar on *स्वर्गीय पासवान की स्मृति और आदर्श सदैव प्रेरणादायक:शास्त्री* खगड़िया, 26 अक्तूबर 2022 सदर प्रखण्ड के रानीसकरपुरा निवासी पूर्व जिला परिषद् प्रत्याशी व जदयू नेता समाजसेवी स्मृतिशेष दिवंगत राजेश पासवान के याद में रानीसकरपुरा पंचायत के वार्ड नं 01 स्थित सुशिला सदन के परिसर में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।जिसकी अध्यक्षता स्थानीय पंसस प्रतिनिधि रवि कुमार पासवान ने की।जबकि मंच संचालन डॉ0 मनोज कुमार गुप्ता ने किया।सर्वप्रथम उपस्थित अतिथियों तथा शुभचिंतकों के द्वारा उनके तैलचित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित कर नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। मौके पर जदयू के जिला प्रवक्ता आचार्य राकेश पासवान शास्त्री ने कहा कि स्वर्गीय राजेश पासवान की मधुर स्मृति, स्नेह,आदर्श, मार्गदर्शन एवं उनके आशीर्वाद हमसबों के लिए सदैव प्रेरणादायक रहेंगे।उन्होंने कहा कि जब कभी भी बरैय और रानीसकरपुरा पंचायत के राजनीतिक व सामाजिक कार्यों में बेहतर भूमिका निभाने वालों की चर्चा होगी तो उसमें स्वर्गीय पासवान का नाम श्रद्धापूर्वक लिया जाएगा। इस अवसर पर रामपुकार पासवान, रामविलाश पासवान, रामदेव पासवान, चन्दर पासवान, अरूण पासवान, जदयू नेत्री ईशा देवी, रीना देवी, बिभा कुमारी,राजीव पासवान, अमित पासवान, सरोज पासवान, विजय पासवान, जितेन्द्र पासवान, दीपक कुमार, हरिवंश कुमार, अभिषेक कुमार, वार्ड सदस्या सुशीला देवी,अनोज कृष्ण,चिराग व बिक्रम कुमार आदि दर्जनों गणमान्य लोग उपस्थित थे